Full Love Story Ek Daastan Mohabbat Ki In Hindi Story


18
1 share, 18 points

EK DASTAN MOHABBAT KI

एक अनोखी कहानी – जो दिल को छु जाए

[Note- यह कहानी पूरी तरह से काल्पनिक है ]

यह कहानी एक ऐसे पीढ़ी की है, जो प्यार को मजाक नहीं बल्कि खुदा समझते है | यह उस समय की बात है जब रोहन को प्यार हुआ था | जब उसे किसी और की ज़िन्दगी अपनी लगने लगा था |

हेलो दोस्तों मेरा नाम श्वेता है, मैं रोहन की छोटी बहन हूँ | मैं और रोहन हमेशा फ्रेंडली (Friendly) बात करते थे |

यह कहनी करीबन 5 साल पहले की है जब मैं अपनी कॉलेज (collage) की छुट्टियों में घर गई थी | उस समय मैंने रोहन भाई को देखा तो उसके चेहरे पर एक अजब सी ख़ुशी थी | मैंने रोहन से पूछा की क्या बात है, भाई तुम बड़ी खुश नजर आ रहे हो कहीं तुमको प्यार तो नहीं हो गया | रोहन चौक गया और कहा तुमको कैसे पता ,….. मैंने कहा तुम्हारी चेहरे पर साफ नजर आ रहा है ……



रोहन बोला हाँ मुझे एक लड़की से प्यार है, लेकिन कहने से डर लग रहा है | कहीं ओ ना कर दी तो ????

मैंने कहा, “ना” कह देगी तो फिर से try करना उसमें क्या है …

रोहन ने बोला ठीक है मैं कल ही उसको बोल दूंगा की, मैं उससे प्यार करता हूँ |

मैंने कहा – वैसे उसका नाम क्या है ???

रोहन  – शुभू

मैंने कहा – बहुत खूबसूरत सा नाम है शुभू ……

और यह बात सुन कर वह खो गया कहीं, मैंने उसे झटके से हिलाया और कहा अरे भाई सपने की दुनिया से बहार आओ अभी शुभू को प्रपोज़ (propose) करना बाकी है ……

रोहन – झटके से उठा और कहा क्या हुआ शुभू कहाँ गई |

मैंने कहा – शुभू भाग गई किसी और के साथ !!!

रोहन – क्या बोल रही हो कब भागी ?

मैंने कहा – अरे बाबा मजाक कर रही हूँ, शुभू कहीं नहीं भागी है |

रोहन – तब ठीक है, तुमने तो डरा ही दिया मुझको |

मैंने कहा – यह डर सच भी हो सकता है, अगर तुम उसको I lOVE YOU नहीं बोलोगे तो ….

रोहन – अरे यार मुझे डराना बंद करेगी, कब से डरा रही है |

मैंने कहा – भाई तुमको डराने में मजा आ रहा है |

रोहन  – अच्छा है, जब तेरी बरी आएगी तो मैं डरूंगा याद रखाना ……!!!

मैंने कहा – ठीक है, एक बात बताओ कल तुम उसे कैसे प्रपोज़ (propose) करोगे ??

रोहन – यही तो समझ में नहीं आ रहा है, plzz help करो ना तुम ….

मैंने कहा – तुम एक दम फट्टू हो, चलो ठीक है मैं तुम्हारी मदत करूँगी ….

रोहन – Thanks श्वेता …

मैंने कहा – इतना मसका मत मरो, चलो बताओ की तुम शुभू को कैसे प्रपोज़ (propose)  करोगे ?

रोहन – मैं सीधे जा कर उसे I love u बोल दूंगा |

मैंने कहा – और

रोहन – और क्या हो गया …..

मैंने कहा – तुम प्यार के मामले में पूरे निठल्ले हो …..

रोहन – तो तुम ही बताओ उसे कैसे प्रपोज़ (propose) करूँ ??

मैंने कहा – एक अच्छा सा डिनर (Dinner) प्लान (plan)  करो और उसे वही rose के साथ प्रपोज़ (propose) करना समझे |

रोहन – क्या बात है, श्वेता क्या विचार (IDEA)  दी हो हमको |

मैंने कहा – और कुछ poetry (शायरी) सी line लिख लो उसे बोलने के लिए, समझे भाई |

अगले दिन रोहन घर देर से आया और वह उदास लग रहा था | मैंने कहा क्या हुआ भाई तुम नाराज लग रहे हो कुछ हुआ है |  क्या कहा शुभू ने ??

रोहन – तेरा भाई हार गया इस मोहब्बत की लड़ाई में श्वेता …

मैंने कहा – आखिर हुआ क्या है, साफ़ – साफ़ बताओगे मुझे …..!

रोहन मुझे पकड़ कर जोर – जोर से रोने लगा और कहने लगा की तेरा भाई हार गया | तेरा भाई अपने पहले प्यार में नाकाम रह गया …….

मैंने कहा – चलो चुप हो जाओ जो हुआ उस पर रोने से वह वापस तो नहीं आ जाएगी |

रोहन रोतेरोते चुप हो गया | मैंने देखा तो वह रोते – रोते सो गया था | मैंने उस वक़्त खुदा से कहा की इन दोनों की कहानी ऐसे ख़त्म ना कर ए मेरे खुदा, यह इतनी शिद्दत से उसे प्यार करता है, की शायद यह किसी और को कभी पसंद (like) नहीं कर पायेगा plzz इन दोनों को मिला दो plzz. |



रोहन सो चूका था, मैंने अपने गोद से उसका सर हटाया और उसके नीचे तकिया (PILLOW) रख दिया और उसे चादर ओढा ( tossed the bedsheet ) कर मैं वही पास के सोफे पर सो गई | ताकि ओ रात को अचानक घबराने लगे तो मैं उसके पास रहूँ |

मैं सुबह को उठी और देखा तो रोहन अभी भी सोया हुआ था | मैं उसके पास गई और उसे उठाया और कहा की भाई तुमको collage नहीं जाना है क्या, उठो और जाओ …..!

रोहन – बोला की नहीं जाना है, मुझे मन नहीं कर रहा है |  तुम जाओ ……

मैंने उसकी कोई बात न सुनी और उसे उठाया और उसे collage भेज दिया और वह collage गया |

रोहन जब कॉलेज(college)  पहुंचा तब शुभू वही collage के गेट पर खड़ी थी | लेकिन रोहन ने उसकी तरफ देखा नहीं और इग्नोर (IGNORE) कर के वह से चला गया |

क्लास में वो दोनों एक ही बेंच (BENCH) पर बैठते थे, लेकिन उस दिन शुभू जिस बेंच पर बैठ थी रोहन उसे छोड़ किसी और बेंच पर बैठ गया |

शुभू उसके तरफ देखने लगी, लेकिन रोहन ने उसे इग्नोर करना चालू कर दिया था | रोहन क्लास ख़त्म होने पर जल्द ही वह से बहार चला गया | उस दिन रोहन शुभू से बात तक नहीं किया  |

रोहन घर आया और अपने बिस्तर पर जा के सो गया न कुछ खाया – पिया | ऐसे करते – करते एक सप्ताह हो गया न रोहन ने शुभू के तरफ देखा और ना ही उससे बात की |

अगले शाम उनके ग्रुप का फेयरवेल (FAREWELL ) पार्टी थी उस दिन | रोहन पूरा बन – ठान के गया और उस पार्टी में किसी और लड़की के साथ गया, जिसे देख कर शायद शुभू जल उठी |



वहां पार्टी में रोहन कोई और लड़की के साथ डांस कर रहा था और शुभू को इग्नोर कर रहा था | शायद वह, अपने दिल का हाल छुपा रहा था | शुभू ये सब देख कर रह नहीं पाई और शराब से भरी गिलास एक बार में ही पी (DRANK) गई |

जब उसे नशा चढ़ने लगा तो ओ स्टेज पर शराब का बोतल लिये हुए चढ़ गई और mic पकड़ कर कहने लगी की तुम मुझे इग्नोर क्यू कर रहे हो ? सब यह बात सुन कर चौक गये की यह किस को बोल रही है |

रोहन वहन से मुड़ कर जाने लगा, लेकिन पीछे से आवाज आया की रूक जाओ एक सच तुमको बताना है

जिस दिन तुमने मुझे प्रपोज़ (propose)  किया उस दिन मेरे ख़ुशी का ठिकाना नहीं था | उस वक़्त मैं हवा में उड़ रही थी | मुझे लगा की इससे अच्छा दिन आज तक मेरे ज़िन्दगी में नहीं आई है | लेकिन मुझे नहीं पता था की वह दिन खुशी के साथ – साथ गम भी ले आएगी |

जिस वक़्त तुमने मुझसे I love u कहा तो मैं बहुत खुश हुई लेकिन, मैं जब I love u too बोलने वाली थी | तभी मेरे भाई साहब मेरे आगे आ गये, इस लिए मैं बोल ना पाई और तुम पर हाथ उठा दिया | plzz मुझे माफ कर दो |

आज मैं सब के सामने यह कहती हूँ की, हाँ मैंने भी तुमसे बहुत प्यार करती हूँ I love u too

हाँ रोहन मैं सिर्फ तुमसे और तुमसे ही प्यार कि हूँ और करती हूँ और करती रहूंगी  I love u

रोहन – दौड़ हुए शुभू को जोर से गले लगा लेता है और उसे kiss कर लेता है |

शुभू – I love u रोहन, मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ |

रोहन – मैं भी तुमसे बहुत प्यार करता हूँ I love you so much .

शुभू – तुम मुझसे नज़रें कभी मत फेरना वरना मैं मर जाऊंगी, तुम नज़रें फेरते हो तो दिल रो पड़ता है |

रोहन – नहीं कभी नहीं फेरूंगा तुमसे नज़रें I love u so much

वहाँ आए सभी ग्रुप के लड़के और लड़कियां जोर – जोर से ताली बजाने लगे और हल्ला करने लगे यह देख कर शुभू शरमा गई और फिर से रोहन को गले लगा लिया |

उस दिन से ओ दोनों हमेशा खुश रहने लगे लगभग 1 साल बीत गए |

एक दिन रोहन मिलने जा रहा था शुभू को, रास्ते में कार चलते हुए वह CHATTING(बातें) कर रहा था शुभू से ————–

शुभू – hi baby

रोहन – hi जानूँ

शुभू – क्या कर रहे हो ?

रोहन – तुम्हारे पास आ रहा हूँ ….

शुभू – और baby मेरे लिए क्या ला रहे हो

रोहन – ढेर सारा प्यार …

शुभू – और …

रोहन – बहुत सारी यादें ….!!!

शुभू – पता है ?

रोहन – क्या ?

शुभू – तुम बहुत याद आ रहे हो ….! I miss u

रोहन – आगे भी याद आता रहूँगा ….! I miss u too

शुभू – मतलब

रोहन – बस दिल में आया और बोल दिया ….!

शुभू – और बताओ ????

तभी रोहन शुभू को जवाब (ANSWER) देने में व्यस्त (busy) हो गया तभी अचानक से उसके आगे एक मोड़ आया और वह अचानक से कट लिया और देखा की आगे से कोई ट्रक आ रहा है, तो वह जोर से कट लिया और गाढ़ी की संतुलन (BALANCE) बिगड़ गई और गाड़ी खाई में गिर गया और देखते ही देखते गाड़ी ब्लास्ट (BLAST) हो गई |

हमारे घर में मातम था लेकिन शुभू को इस बारे में पता नहीं था की रोहन अब नहीं रहा |

वह इस दुनिया को छोड़ कर जा चूका है | वह उसे अधूरा (INCOMPLETE) कर इस दुनिया से जा चूका है |

रोहन के जाने के एक महीना हो गया है और शुभू आज भी मैसेज (MESSAGE) करती है | मुझे समझ नहीं आता है, की मैं उसे क्या जवाब दूँ ? क्या कहूँ उससे, की उसकी मोहब्बत अब इस दुनिया में नहीं है ? या ये कहूँ की तुम उसे भूल जाओ ……….!



उसके मैसेज का क्या REPLY दूँ समझ नहीं आता ……..

शुभू – कहाँ हो तूम ?

शुभू – तुम कभी ऑनलाइन नहीं आते हो ?

शुभू – क्या मुझसे कोई भूल हुई है?

शुभू – मुझसे नाराज हो ?

शुभू – plzz मुझसे बात करो ना ?

शुभू – तुम्हारे बगैर कुछ अच्छा नहीं लग रहा है ?

शुभू – plzz मुझसे बात करो ना ???

शुभू – मेरे मैसेज का जवाब क्यू नहीं दे रहे हो ?

शुभू – कुछ तो बोलो ??

शुभू – क्या मुझसे मन उब गया है तुम्हारा, की तुम मुझसे बात तक नहीं कर रहे हो ?

शुभू – plzz यार कुछ तो reply दो

शुभू – तो मैं क्या समझूँ की हमारा ब्रेकअप हो गया है, plzz इसका जवाब जरूर देना ?

हमारे बीच कुछ कहा सुनी भी नहीं हुई और तुम बात करना छोड़ दिए हो | सोचा की 2 दिन बाद कॉल करोगे, 1 सप्ताह बाद कॉल करोगे, 10 दिन बाद कॉल करोगे , 11 महीन भर गुजर गया अब लगा की कॉल नहीं करोगे |

अब फिर फैसला लिया की बहुत हुआ | खुद के साथ और खिलवाड़ नहीं, ठीक है जो भी उसी से काम चला लेंगे | फिर तुमसे अलग होने का फैसला तुम्हें भी सुनाया और ना तुमने सवाल किया और न ही कोई कोशिश की , की मैं अपना फैसला बदल दूँ | तो मैंने भी स्वीकार लिया की चलो ठीक है, चला लेंगे  |

तुम जाते – जाते बहुत कुछ ले गए मुझसे , तुम मेरे सपने ले गए मेरी उम्मीदों को ले गए | आज मैं हूँ बहुत खुश हूँ, जहाँ पर हूँ | पर आज मन नहीं है शादी करने का, आजा मन नहीं है किसी के साथ को रहने का , उस कदर स्वीकार करने का अपना 100% फिर से किसी को देने का |

“बहुत मशहूर कहावत है दिल के उदास हो जाने पर

मेरी आँखें तुम्हें ना देखे लेकिन,

मेरा दिल हमेशा तुम्हारी सोच में गुम रहता है”

यह status जो तुम लगाये हो इसे हर रोज पढ़कर तुम्हें याद करती हूँ, तुमको बहुत miss करती हूँ |



Plzz लौट आओ मेरे ज़िन्दगी में, मैं तुम्हारे बिना बहुत अधूरी और अकेली हूँ | तुम्हारा साथ ही मुझे पूरा करता है, तुम ही को मैं अपनी ज़िन्दगी मानी हूँ | तुमसे नफरत करने की लाख बार कोशिश की हूँ, पर हो नहीं पता है | लगता है, की तुम मुझे अभी पीछे से आवाज दोगे और जोर से गले लगाओगे | मैं तुम्हारे लिए आज भी सजती – सँवरती हूँ, की कहीं तुम आ गए और मैं अच्छी ना दिखी तो | plzz come back my life.

लेखक – रंजन कुमार


Like it? Share with your friends!

18
1 share, 18 points

What's Your Reaction?

Confused Confused
0
Confused
Sad Sad
14
Sad
FUN FUN
0
FUN
hate hate
0
hate
win win
14
win
SEXY SEXY
12
SEXY
geeky geeky
0
geeky
love love
15
love
lol lol
3
lol
omg omg
13
omg
edk shayari

Hello , This is Shayari sharing website .Where you will find good stories and good poetry and different types of shayari and image and you can read more beautiful content . you can easily share your friends.

One Comment